Sunday, July 20, 2014

“Nirbhaya Memorial” in Lucknow

“Nirbhaya Memorial” in Lucknow

People’s Forum shall be coming up with a memorial of Woman Pride in Lucknow in remembrance, respect and honour of all the women folk who are subjected to any kind of sexual cruelty, sexual assault, rape and other such sexual offences.

The Memorial, called the Nirbhaya memorial, shall consist of statute of a woman as the symbol of all hopes and virtues representing womanhood vis-à-vis a grotesque demon representing the evil lecherous men who indulge in these offences so as to present women’s struggle against all kinds of sexual injustice and the ugliness of such acts.

This memorial shall be in honour of all Indian women belonging to any religion, region, class or creed. The purpose of this memorial will be to remind the people of the tremendous struggle of womenfolk against sex-related offences and also to act as a resistant to those who want to indulge in such horrendous crimes.


लखनऊ में "निर्भया मेमोरियल”

पीपल्स फोरम जल्द ही नारी अस्मिता के प्रतिक के रूप में समस्त नारी संवर्ग की प्रतिष्ठा और किसी भी प्रकार के यौन हिंसा, यौन उत्पीडन, बलात्कार आदि की शिकार हुई महिलाओं की याद और सम्मान में “निर्भया मेमोरियल” का निर्माण करेगा.

निर्भया मेमोरियल के तहत नारीत्व को दर्शाती और समस्त महिलाओं की आशाओं और गुणों को दर्शाती एक नारी की मूर्ती और उसके समक्ष ऐसे दुष्कर्मों और दुष्कृत्यों में संलग्न सभी पुरुषों का प्रतिनिधित्व करती घिनौने पुरुष दैत्य की मूर्ति होंगी जो समस्त प्रकार के यौन उत्पीडन के प्रति महिलाओं के संघर्ष को दर्शायेंगी.

यह मेमोरियल इस देश के सभी धर्म, जाति, संप्रदाय, वर्ग की महिलाओं के सम्मान में बनाया जा रहा है. इस मेमोरियल का उद्देश्य महिलाओं द्वारा यौन-सम्बंधित हिंसा और अपराधों के प्रति किये जा रहे भयावह संघर्ष का द्योतक बनना और भविष्य में ऐसा कोई अपराध करने की सोचने वाले पुरुष को ऐसा करने से रोकने का कारक बनना है.

Amitabh Thakur # 094155-34526
Dr Nutan Thakur # 094155-34525

Thursday, July 17, 2014

On-the-spot study by People’s Forum in Kanth episode

On-the-spot study by People’s Forum in Kanth episode

Introduction- People’s Forum is a Lucknow based social organization which works mainly in the field of transparency and accountability in public life and Human Rights. This study was conducted by me, social activists Saleem Beg, Dr Nutan Thakur, Danish Khan, Abhishek Singh and others. Here the two concerned parties, various political persons, administrative officers and intellectuals were approached and an attempt was made to study the matter through an academic perspective. At the same time, suggestions have been given to reduce such incidences in future. The detailed report shall be sent to the Central and State government. 

Important conclusions-

1.       The most important conclusion is that for various historic and social reasons, today the harsh reality is that communal feeling and an internal distrust has become a fact in this region which always comes to the fore at the slightest pretext. This fact is apparent from the exactly opposed version given by the villagers about the temple and the loudspeaker where one group said that loudspeaker was in use for years, the other group said that till recently there was not even a gate and boundary in the temple and the loudspeaker was used only on few special occasions
2.       Hence the administration of these regions need to accept that communal feelings like deep in the psyche and they need to be extremely alert about this
3.       This incidence also makes it clear that for people of these regions, communal feelings become more important than many other issues related with day to day life and they get more deeply and more quickly affected by communal feelings vis-à-vis many issues related with their livelihood
4.       Hence we need to come out of our thinking that only political parties and vested interests are responsible for these incidences and we need to accept that religious and communal feelings are very deeply ingrained in common people
5.       Political parties are aware of this reality and hence they are always in search of them because they know that poor, semi-literate people can be swayed more easily through such issues as can be seen from Kanth episode. Here again the political parties supported the issue assisting it to acquire larger context but they could do it only because the local people gave them a fertile ground
6.       This episode once again makes it clear that since vote is the most important thing for political parties and religious feelings are the easiest and most effective means to garner votes, hence they are naturally in search of every such occasion. Here again efforts of polarization were very apparent. The matter which might have ended easily blew out of proportion because of political involvement
7.       Since the basic aims of administration and political parties are different and while vote and people’s support is more important to political parties and law order and rule of law is more important to administration, hence administration must accept this basic reality. Thus whenever such incidence take place, the administrative officers shall focus themselves on their own work and strategy instead of pointing fingers at one or more political parties because fundamentally their work and purpose are not the same
8.       In this episode, certain administrative officers seem to have forgotten this cardinal principle and instead of focusing on their work, they were found commenting on political parties which could have been easily avoided because firstly it was not needed, secondly this gave an alibi for subordinate staff to hide their faults and thirdly this acted as a catalyst to enhance the issue. Hence, knowingly or unknowingly some administrative officers became a party where certain groups started questioning their neutrality, having its detrimental effect on their functioning.
9.       Even if there was internal communal feeling among people and the political parties came in between but the administrative responsibility was definitely found for whatever untoward events happened. The episode went for a long time and there were many things that could have been avoided at different ends. Better communication, more direct contact with the affected people and more balanced approach could have certainly yielded better results. When loudspeaker had already been installed then knowing the sensitivity of the month, taking off the loudspeaker in presence of large police force should have been avoided
10.   Since there was large police force present on the day of taking off the loudspeaker, hence even if some villagers were protesting this act, there does not seem to be any reason to arrest them because arresting women and others in presence of such large police force sent wrong signals and they started believing that the administration was not neutral in their action and was acting to please the other group. Once this impression was formed, many such events happened later which assisted in strengthening this thought
11.   There were three aged women among those arrested and they made definite complaints about their improper arrest and about Human Rights violations before police and in jail
12.   The stopping of Upasna express and the Good train at Kanth could have been avoided because at that time there was not much crowd on the spot and if the train could have gone ahead, such large crowd might not have assembled there, avoiding the DM and stone pelting incidence
13.   Many police and administrative officers anonymously accepted that on many occasions many officers did not protect themselves to the required standard, resulting in their getting hurt. Many officers were negligent in properly wearing helmet and body protector and most of them avoided hand and leg protectors resulting in such injuries
14.   If these people had properly protected themselves then they could have been better placed to face the hostile crowd and many hurried police action could have been avoided


कांठ प्रकरण पर पीपल’स फोरम द्वारा मौके के अध्ययन

कांठ प्रकरण पर पीपल’स फोरम द्वारा मौके के अध्ययन

प्रस्तावना- पीपल’स फोरम लखनऊ स्थित एक सामाजिक संगठन है जो मूल रूप से लोकजीवन में पारदर्शिता एवं उत्तरदायित्व तथा मानवाधिकार के क्षेत्र में काम करता है. यह अध्ययन मेरे, सामाजिक कार्यकर्ता सलीम बेग, डॉ नूतन ठाकुर, दानिश खान, अभिषेक सिंह आदि द्वारा किया गया है. इसमें दोनों पक्ष के लोगों के अलावा राजनैतिक व्यक्तियों तथा प्रशासन के जिम्मेदार पदाधिकारियों एवं अन्य सजग बुद्धिजीवी संवर्गों से वार्ता तथा पूछताछ कर इस पूरे मामले की वस्तुस्थिति को अकादमिक ढंग से समझने का प्रयास किया गया है. साथ ही भविष्य में इस प्रकार की घटनाओं की पुनरावृत्ति रोकने के लिए सभी सम्बंधित पक्षों के लिए कुछ सुझाव भी दिए गए हैं. इस अध्ययन की विस्तृत रिपोर्ट भारत सरकार तथा उत्तर प्रदेश सरकार को भी सौंपी जायेगी. 

मुख्य निष्कर्ष---

1.       सबसे महत्वपूर्ण निष्कर्ष यह है कि चाहे इसके ऐतिहासिक और सामाजिक कारण जो भी हों पर आज के दिन सच्चाई यही है कि इस पूरे इलाके के लोगों के बीच साम्प्रदायिक भावना और एक प्रकार की अंदरूनी दूरी निरंतर मौजूद रहती है जो मौका पाते ही सतह पर आ जाती है. यह बात इससे स्पष्ट हो जाती है कि एक ही तथ्य (मंदिर और उसके लाउडस्पीकर) के बारे में गांव के दोनों पक्षों ने बिलकुल अलग-अलग बात बतायी. जहां एक पक्ष ने यह कहा कि कई साल से लाउडस्पीकर बजता रहा है वहीँ दूसरे पक्ष ने यहाँ तक कह दिया कि अभी हाल तक मंदिर में बाउंड्री और गेट भी नहीं था और पहले लाउडस्पीकर केवल कुछ ख़ास अवसरों पर ही बजता था 
2.       अतः इन इलाकों में प्रशासन को यह बात स्वीकार करनी चाहिए कि साम्प्रादायिक भावना की जड़ें काफी गहरी हो गयी हैं और उन्हें इसके सम्बन्ध में निरंतर अत्यंत सजग रहना चाहिए
3.       इस घटना से यह भी स्पष्ट होता है कि इन तमाम इलाकों में साम्प्रदायिक भावनाएं दैनिक जीवन की अन्य तमाम बातों और संघर्षों से ज्यादा महत्व रखती हैं और लोग रोजी-रोटी की समस्याओं और दैनिक जीवन से जुडी अन्य तमाम गंभीर समस्याओं और घटनाओं की जगह सांप्रदायिक भावनाओं से कहीं अधिक तेजी से प्रभावित होते हैं.
4.       हमें ऐसी घटनाओं के लिए मात्र राजनैतिक दलों अथवा बाहरी लोगों को ही जिम्मेदार मानते रहने की सोच से निकलना होगा और यह स्वीकार करना होगा कि धार्मिक और साम्प्रदायिक भावनाओं की जड़ें काफी गहरी हैं और आम आदमी तक फैली हुई है
5.       राजनैतिक दल इस सच्चाई से अवगत होने के नाते हमेशा ऐसे अवसरों की तलाश में रहते हैं क्योंकि वे जानते हैं कि गरीब, कम पढ़े-लिखे लोग तेजी से साम्प्रदायिक मुद्दों की तरफ प्रभावित हो जाते हैं जहां आसानी से उनसे जुड़ा जा सकता है जैसा कि कांठ की घटना में भी देखने को मिला. इस मामले को भी राजनैतिक पार्टियों ने अपने हितों के लिए काफी तूल दिया लेकिन उन्हें भी यह मौका तभी मिला जब स्थानीय लोगों ने उन्हें अवसर दिया.
6.       यह घटना एक बार पुनः यह स्पष्ट करती है कि चूँकि राजनैतिक दलों के लिए वोट सबसे अधिक महत्वपूर्ण होता है और वोट के लिए धार्मिक और साम्प्रदायिक भावनाएं सबसे आसान और प्रभावशाली होते हैं अतः वे स्वाभाविक रूप से ऐसे अवसरों की तलाश में निरंतर रहते हैं जिसमे कम मेहनत करके लोगों में अपनी पकड़ बनायी जा सकती है. इस मामले में भी ध्रुवीकरण करने के स्पष्ट प्रयास दिखे. अतः जो मामला आसानी से समाप्त हो सकता था वह राजनैतिक दलों की सहभागिता से अपने आप बड़ा हो गया और राजनैतिक दलों की भंगिमा यह बताती हैं कि मामला अभी थमता नहीं दिख रहा है
7.       चूँकि प्रशासन और राजनैतिक दलों के उद्देश्य अलग-अलग होते हैं और जहां राजनीतक दलों के लिए वोट और लोगों का जुड़ाव महत्वपूर्ण है, वहीँ प्रशासन के लिए क़ानून व्यवस्था और विधि के राज्य की स्थापना, अतः प्रशासनिक अधिकारियों को यह तथ्य स्वीकार करते हुए अपने कार्यों को तदनुसार सम्पादित करना चाहिए और यदि कोई घटना हो जाए तो उसके लिए किसी एक अथवा अनेक राजनैतिक दलों को इंगित करने की जगह अपने कार्यों, योजना और अपनी रणनीति का विश्लेषण करने पर ध्यान देना चाहिए क्योंकि बुनियादी रूप से ही प्रशासन और राजनैतिक दलों के कार्य और उद्देश्य में समानता नहीं होती
8.       इस प्रकरण में कई अवसरों पर कुछ प्रशासनिक अधिकारी इस बुनियादी सिद्धांत को भूल कर अपने कार्यों और रणनीति के विश्लेषण के स्थान पर राजनैतिक दलों की टीका-टिप्पणी करते पाए गए जिससे आसानी से बचा जा सकता था क्योंकि एक तो इसकी कोई आवश्यकता नहीं थी, दूसरे इससे नीचे के प्रशासनिक अधिकारियों को भी अपनी कमियां और गलतियाँ छिपाने के बहाने मिल गए और तीसरे इसने मामले को बढाने में मदद की. अतः इस मामले में जाने-अनजाने कुछ प्रशासनिक अधिकारी अकारण पार्टी बन बैठे जिससे एक पक्ष द्वारा उनकी निष्पक्षता पर प्रश्न लगाए जाने लगे और उनके प्रशासनिक प्रभाव पर भी इसका प्रतिकूल असर पड़ा
9.       भले ही लोगों में आतंरिक सांप्रदायिक भावनाएं थीं और राजनैतिक दल उन्हें बढाने की कोशिश में रहे पर जो भी स्थिति अनियंत्रित हुई, उसमे निश्चित रूप से प्रशासनिक जिम्मेदारी दिखी क्योंकि यह प्रकरण एक लम्बे समय तक चलता रहा था और ऐसे में कई ऐसी बातें थीं जिससे बचा जा सकता था. अतः यदि बेहतर सूझबूझ, अधिक जन संपर्क, स्थानीय लोगों से सीधे अधिक संवाद किया गया होता तो बेहतर परिणाम संभावित थे. जब लाउडस्पीकर लग गया था तो ख़ास कर इस संवेदनशील महीने में यह जानते हुए कि ऐसे मामले संवेदनशील होते हैं उसे तत्काल भारी पुलिस बल के साथ उतारने के कार्य से बचना शायद उचित होता
10.   लाउडस्पीकर उतारने वाले दिन जितना पुलिसबल मौके पर था उसमे यदि ग्रामीण विरोध भी कर रहे थे तो भी उन्हें गिरफ्तार करने का स्पष्ट औचित्य नहीं दिखता है क्योंकि भारी संख्या में पुलिसबल ले जा कर लाउडस्पीकर उतारने और उसके साथ ही महिलाओं सहित लोगों को गिरफ्तार करने से सम्बंधित पक्ष में गलत सन्देश गया और उन्हें ऐसा लगा कि प्रशासन एक पक्ष को संतुष्ट करने के लिए कार्य कर रहा है. इसके कारण एक बार यह जो धारणा बन गयी आगे भी अनेक कारणों से वह बरकरार रही और इसने भी प्रकरण को बढाने में काफी योगदान दिया
11.   जो ग्रामीण महिलाएं गिरफ्तार की गयी थीं उनमे तीन अधेढ़ उम्र की थीं और उन्होंने पुलिस के सामने और जेल में मानवाधिकार उल्लंघन की शिकायतें कीं
12.   उपासना एक्सप्रेस और माल गाड़ी ट्रेन जिस समय कांठ में रोके गए उस समय उन्हें नहीं रोका जाना बेहतर होता क्योंकि उस समय काफी कम भीड़ थी और ये ट्रेन निकल जातीं तो मौके पर उतनी भीड़ नहीं जुटती और डीएम से सम्बंधित घटना और पथराव की घटना से बचा जा सकता था
13.   पुलिस और प्रशासन के कई अधिकारियों ने गोपनीयता की शर्त पर यह बात स्वीकार किया कि कई अवसरों पर कई अधिकारियों ने क़ानून व्यवस्था की नजाकत के अनुसार स्वयं को सुरक्षित करने के उपाय नहीं अपनाया जिसके कारण कई अधिकारी ऐसे घायल हुए जिससे वे आवश्यक सुरक्षा प्रबंध करने पर आसानी से बच सकते थे. यह तथ्य सामने आया कि कई अधिकारी हेलमेट और बॉडी प्रोटेक्टर पहनने में कोताही करते दिखे और बहुतायत में इन लोगों ने हाथ और पैर की सुरक्षा के लिए दिए गए प्रोटेक्टर नहीं पहना जिसके कारण कई सरकारी कर्मी घायल हुए.
14.   यदि इन सभी लोगों ने स्वयं की रक्षा के लिए समुचित सुरक्षा प्रबंध किया होता तो ये अधिक धैर्यपूर्वक मौके की स्थितियों का सामना कर पाते और जब कभी भी चोट लगने, पथराव होने के कारण जिस किसी भी स्तर पर अधीरता दिखाई गयी उससे बचा जा सकता था

Friday, July 11, 2014

Letter against obscene graffiti in Railway washrooms

सेवा में,
रेलवे बोर्ड,
भारत सरकार,
नयी दिल्ली
विषय- भारतीय रेल के विभिन्न ट्रेनों में अत्यंत अश्लील शब्दावली/ चित्र आदि के विषय में
      मैं अमिताभ ठाकुर पेशे से यूपी कैडर का एक आईपीएस अधिकारी हूँ और व्यक्तिगत स्तर पर विभिन्न सामाजिक कार्यों से भी जुड़ा रहता हूँ.

हाल में मैं लखनऊ से दिल्ली गया था और वहां से दिनांक 09/07/2014 को दिल्ली-लखनऊ राजधानी एक्सप्रेस (ट्रेन नंबर 12430), के थर्ड एसी के कोच न० बी9, जिसमे हमारा बर्थ नंबर 25 (पत्नी डॉ नूतन ठाकुर) तथा 28 (मेरा) था, से वापस लखनऊ लौट रहा था.
उस कोच के एक शौचालय में निम्न बात लिखी हुई थी -“लडकियां @@ के लिए हमसे बात करें. 81265-53157 पर, 81265-53157 काल मी. काल करें, B.T.K कर रहा हूँ. मेरी उम्र 22 वर्ष है. मेरा @@ 7 इंच लम्बा और मोटा है.” (@@ का प्रयोग दो अत्यंत अश्लील शब्दों के लिए किया गया है). ऐसा नहीं है कि मैंने इस तरह की लिखी बातें पहले भारतीय रेल में कभी नहीं देखी हो. मैं पूरे देश की बात नहीं जानता पर यूपी और बिहार, जहां मैंने अपने जिन्दगी का ज्यादातर हिस्सा बिताया है, में ट्रेनों के  शौचालयों में इस तरह की गन्दी बातें और तस्वीरें बहुत ज्यादा दिखती रही हैं, यद्यपि यह भी सही है कि ऐसी गन्दी तस्वीरें एसी कोच की तुलना में सेकंड क्लास में ज्यादा संख्या में दिख जाती हैं.
पूर्व में भी कई बार इस तरह की तस्वीर, शब्द आदि देख कर मुझे एक अजीब सी वितृष्णा और नाराजगी होती थी पर इस बार मैंने निश्चित किया कि मैं यह प्रकरण रेलवे के वरिष्ठतम अधिकारियों के संज्ञान में लाऊंगा और उनसे यह अनुरोध करूँगा कि वे इस प्रकार की गंदगी को रेलवे से दूर करने का पुख्ता इंतज़ाम करें. अतः मैंने इन शब्दों की फोटो खींची जिसे मैं इस पत्र के साथ सम्बद्ध कर रहा हूँ.
आप स्वयं सहमत होंगे कि सार्वजनिक स्थानों पर, रेलवे ट्रेन की कोचों में, इस तरह की घटिया, अश्लील और ओछी बातें किसी भी प्रकार से उचित नहीं हैं. ट्रेन में हर प्रकार के और हर उम्र के लोग आते-जाते हैं, महिलायें होती हैं, बच्चे-बच्चियां होते हैं. इसके अलावा कई बार देश-विदेश के लोग भी यात्रा करते हैं. जाहिर है कि जब वे ट्रेन के शौचालय में जाते हैं और वहां ऐसी भद्दी बातें और गन्दी तस्वीरें देखते हैं तो उन्हें किसी भी प्रकार से अच्छा नहीं लगता होगा. सार्वजनिक स्थान पर इस प्रकार की अश्लीलता अपने आप में अपराध और घृणित तो है ही, यह पूरे रेलवे प्रशासन के प्रति भी अनुचित सन्देश देता है.

चूँकि ये सारी ट्रेनें और उसके कोच रेलवे मंत्रालय के सम्पूर्ण नियंत्रण में है जहां रेलवे विभाग के हर प्रकार के स्टाफ काम करते हैं, अतः जब भी कोई व्यक्ति शौचालयों में इस प्रकार की अश्लील टिप्पणी आदि देखता है, चाहे अनचाहे वह सबसे पहले रेलवे विभाग को इसके लिए दोषी और उत्तरदायी समझता है. उसके मन में आता है कि रेलवे विभाग अपने पूर्ण नियंत्रण में रहने वाले इन स्थानों पर इस तरह की गन्दी हरकतों को क्यों नहीं रोकता? और यदि ऐसी हरकतें नहीं रुक पा रही हैं तो कम से कम यह जिम्मेदारी क्यों नहीं लेता कि जिन रेलवे अधिकारियों (कोच कंडक्टर, टीटीई, कोच सहायक आदि) के अधीन वे कोच हैं जिनमे इस तरह की बातें लिखी पायी जाती हैं, उन के खिलाफ कार्यवाही की जाए और उनका इस सम्बन्ध में उत्तरदायित्व नियत किया जाए? साथ ही यह प्रश्न भी प्रत्येक व्यक्ति के जेहन में आता है कि यदि किसी ने छुप-छुपा कर ऐसी गन्दी हरकत कर भी दी तो जब ट्रेन साफ़-सफाई आदि के लिए यार्ड में जाता है तो इस तरफ ध्यान क्यों नहीं दिया जाता है और यदि ऐसी कोई अभद्र टिप्पणी, तस्वीरें आदि दिखती हैं तो उन्हें साफ़ करने की जगह उन्हें जस का तस क्यों छोड़ दिया जाता है ताकि आगे आने वाला हर आदमी उसे जाने-अनजाने पढ़ सके.
आप सहमत होंगे कि शौचालय में कौन क्या कर रहा है इस पर निगाह रखना आसान नहीं है पर आप इस बात से भी सहमत होंगे कि ऐसा करने वाले लोग बहुत अधिक संख्या में नहीं होते और यदि कोच के सम्बंधित स्टाफ को यह जानकारी हो कि इस तरह की बातों पर निगाह रखना भी उनकी जिम्मेदारी में आता है तो वे निश्चित रूप से सजग रहेंगे और इन घटनाओं की पुनरावृत्ति होने की सम्भावना काफी कम हो सकती है. अभी ऐसा लगता है कि इस प्रकार की टिप्पणियाँ आदि रेलवे की प्राथमिकता में बिलकुल नहीं है, जिसके कारण ऐसा करने वालों के हौसले भी बढे रहते हैं और इस प्रकार की अभद्र टिप्पणियाँ/चित्र भारी संख्या में अंकित होते हैं जो सालों-साल यथावत बने रहते हैं, जबकि सार्वजनिक स्थान पर और राजकीय संपत्ति पर इस प्रकार की अश्लील बातें एक आपराधिक कृत्य भी हैं और भारी प्रशासनिक लापरवाही भी.
उपरोक्त तथ्यों के दृष्टिगत मैं आपसे निम्न निवेदन कर रहा हूँ-
1.       रेलवे ट्रेन के शौचालयों तथा अन्य स्थानों पर किसी प्रकार के अश्लील चित्रों/टिप्पणियों/शब्दों आदि की उपस्थिति को सभी स्तरों पर गंभीरता से लेने के कड़े निर्देश निर्गत करें
2.       ट्रेन के शौचालयों और अन्य स्थानों पर ऐसी अश्लील टिप्पणियों आदि की उपस्थिति के विषय में सम्बंधित कोच के स्टाफ की निश्चित जिम्मेदारी और उत्तरदायित्व निर्धारित करने के सम्बन्ध में आवश्यक निर्देश निर्गत करने की कृपा करे
3.       ट्रेन के शौचालयों और अन्य स्थानों पर ऐसी अश्लील टिप्पणियों के अंकित होते ही यार्ड में अगली सफाई आदि होने के समय इन टिप्पणियों/चित्रों आदि को तत्काल हटाये जाने के सम्बन्ध में स्पष्ट निर्देश निर्गत करने की कृपा करें
निवेदन करूँगा कि ये निर्देश महिलाओं, बच्चे-बच्चियों, संवेदनशील नागरिकों सहित समस्त लोगों के लिए सकूनदायक सिद्ध होंगे और वर्तमान में रेलवे द्वारा जिस प्रकार अनजाने में इन आपराधिक कृत्यों में सहभागी की भूमिका निभायी जा रही है, उसे समाप्त करते हुए आम लोगों की निगाहों में भी रेलवे की छवि को बेहतर बनाने में सहायक होंगे.
पत्र संख्या- AT/Rail/Graffiti                                      भवदीय,
अमिताभ ठाकुर )
      5/426, विराम खंड,
गोमती नगर, लखनऊ
                                                                                                                                                                 # 94155-34526